Home / News In Today / युवाओं को संस्कारयुक्त एवं नैतिक मूल्यों की शिक्षा प्रदान किया जाना आवश्यक-सुरेश भारद्वाज

युवाओं को संस्कारयुक्त एवं नैतिक मूल्यों की शिक्षा प्रदान किया जाना आवश्यक-सुरेश भारद्वाज

 

शिक्षा, संसदीय मामले एवं विधि मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि युवाओं को संस्कार युक्त तथा नैतिक मूल्य युक्त शिक्षा दिया जाना आवश्यक है ताकि हमारी युवा पीढ़ी भविष्य का बेहतर नागरिक बनकर भारत को विश्व गुरू बना सके। सुरेश भारद्वाज आज यहां अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज, हरिद्वार के तत्वावधान में आयोजित भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा-2017-18 के पारितोषिक वितरण समारोह की अध्यक्षता कर रहे थे। सुरेश भारद्वाज ने कहा कि विभिन्न कारणों से मध्यकालीन समय से लेकर पराधीनता काल तक हमारे देश की प्राचीन शिक्षा पद्धति को न केवल नष्ट-भ्रष्ट किया गया अपितु शिक्षा को भौतिकतावाद की तरफ मोड़ा गया। उन्होंने कहा कि प्राचीन भारतीय शिक्षा पद्धति में जहां गुरू एवं शिष्य के मध्य आत्मीयता एवं घनिष्टता का भाव था वहीं लॉर्ड मैकाले की शिक्षा पद्धति ने भारतीय युवाओं को संस्कारों से मोड़कर मात्र आजीविका अर्जित करने की सीख दी। उन्होंने कहा कि हमें भारतीय शिक्षा पद्धति को अपनाना होगा और युवा पीढ़ी को संस्कार विहीन बनने से रोकना होगा। शिक्षा मंत्री ने कहा कि सर्वांगीण विकास ही शिक्षा का वास्तविक उद्देश्य है। बौद्धिक, मानसिक एवं शारीरिक विकासयुक्त शिक्षा युवाओं को प्रदान करना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि संस्कारित एवं नैतिक मूल्यों से युक्त शिक्षा ही युवाओं को देश का बेहतर नागरिक बना सकती है। बेहतर एवं उत्तरदायी नागरिक ही भारत को पुन: विश्व गुरू बना सकते हैं। सुरेश भारद्वाज ने कहा कि नैतिक एवं संस्कारित शिक्षा प्रदान करने के लिए सर्वप्रथम अभिभावकों को इस ओर ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि सनातन संस्कृति के अनुसार गर्भावस्था में ही शिशु सुनकर सकारात्मक एवं नकारात्मक ग्रहण करता है। उन्होंने कहा कि अभिभावकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि घर में भारतीय संस्कृति, नैतिक मूल्यों एवं संस्कारों के विषय में जानकारी का आदान-प्रदान होता रहे। युवाओं को यह सीख देनी भी आवश्यक है कि वे सर्वप्रथम अपने परिवार का स मान करना सीखें। शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार स्कूली पाठ्यक्रम में नैतिक शिक्षा के विषय में सारगर्भित जानकारी का समावेश करने की दिशा में अग्रसर है। स्कूली पाठ्यक्रमों में नशे के विरूद्ध भी विषय संयोजन किया जाएगा। सुरेश भारद्वाज ने अभिभावकों एवं अध्यापकों से आग्रह किया कि युवा पीढ़ी को नशे से दूर रखने में अपनी भूमिका का निर्वहन करें। उन्होंने कहा कि आज हमारे प्रदेश में भी नशे का सेवन बढऩे की घटनाएं सामने आ रही हैं। नशे जैसी बुराई से युवाओं को दूर रखने के लिए पूरे समाज को एकजुट होकर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि पूरे समाज को संस्कार एवं नैतिक मूल्यों की शिक्षा देने में सामाजिक-धार्मिक संगठनों को और अधिक कार्य करना होगा। विभिन्न सामाजिक-धार्मिक संगठनों को लोगों को संस्कार, नैतिक मूल्य, परिवार व्यवस्था, सामाजिक व्यवस्था एवं देशहित के विषय में जागरूक बनाना होगा। उन्होंने अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा इस दिशा में किए जा रहे कार्य की सराहना की। उन्होंने आशा जताई कि गायत्री परिवार के प्रयासों से अधिक से अधिक लोग इस दिशा में अग्रसर होंगे। सुरेश भारद्वाज ने इस अवसर पर भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा-2017-18 के विजेताओं को पुरस्कृत भी किया। उन्होंने अखिल विश्व गायत्री परिवार से आग्रह किया कि युवा प्रतिभागियों को शांतिकुंज से संबंधित साहित्य उपलब्ध करवाएं। उन्होंने विजेताओं को बधाई दी और आशा जताई कि वे भारतीय संस्कृति के प्रचार-प्रसार के ध्वजावाहक बनेंगे। अखिल विश्व गायत्री परिवार की हिमाचल इकाई के प्रमुख भारतीय प्रशासनिक सेवा से सेवानिवृत वीके भटनागर ने मु यातिथि का स्वागत किया तथा भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा एवं गायत्री परिवार द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि भावी पीढ़ी को उत्तरदायी, संवेदनशील एवं संस्कारी नागरिक बनाना ही गायत्री परिवार का उद्देश्य है। इस अवसर पर अर्की के पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा, सोलन विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के उ मीदवार रहे डॉ. राजेश कश्यप, भाजपा प्रदेश चुनाव प्रकोष्ठ के संयोजक एचएन कश्यप, बीडीसी कंडाघाट के पूर्व अध्यक्ष नंदराम कश्यप, एपीएमसी के सदस्य किशन वर्मा, संजीव मोहन, गायत्री परिवार के जिला समन्वयक केडी शर्मा, शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिनिधि, गायत्री परिवार के देवेंद्र गुप्ता, मुरारी मार्केट के अध्यक्ष हंसराज गोयल, विभिन्न जिलों से आए प्रतिभागी, अधिकारी, गायत्री परिवार के विभिन्न पदाधिकारी एवं सदस्य तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

About Today Times

Check Also

जन्मदिवस, सालगिरह व स्मृति दिवस पर करें पौधारोपण : राज्यपाल

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने लोगों का आह्वान किया कि वे जन्मदिवस, सालगिरह तथा स्मृति दिवस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *